Wednesday, 7 February 2018

मैं सिर्फ़ तुम्हें चाहूँगा.



















पहली धूप से लेकर,
आख़िरी बरसात तक.
ठंडी सुबह से लेकर,
सुहानी शाम तक.
मैं सिर्फ़ तुम्हें चाहूँगा.

फूलों की बगियों से,

बसंत के पतझड़ तक.
रेत के रेगिस्तान से.
बादल के बरखा तक.
मैं सिर्फ़ तुम्हें चाहूँगा.

©नीतिश तिवारी।

11 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. जुड़िये Ad Click Team से और बढ़ाइए अपने ब्लॉग की इनकम और विजिटर संख्या .........


    आपका लेख Your Share Post

    ReplyDelete
  3. शादी के बाद ही असली परीक्षा होती है प्यार की
    बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां सही कहा आपने। धन्यवाद।

      Delete
  4. खुबसूरत अहसास

    ReplyDelete
  5. वाह बहुत सुंदर
    बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  6. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (09-02-2017) को (चर्चा अंक-2874) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete