Wednesday, 3 January 2018

मैं तुम्हे भूल नहीं पाता हूँ।
























कहते हैं वक़्त हर ग़म भुला देता है,
फिर मैं तुम्हे क्यों नहीं भूल पाता हूँ।
शायद तुम ग़म नहीं एक खुशी थी,
मेरे चेहरे की हंसी थी।

तुम एक कहानी थी,
मेरी ज़िन्दगी की रवानी थी।
तुम एक ख्वाब थी,
जो पूरा होते-होते रह गया।
तुम एक गुलाब थी,
जो खुलकर महक ना सका।

तुमसे बिछड़कर मैं गीत कोई
गा नहीं पाता हूँ।
मैं तुम्हे भुला नहीं पाता हूँ।

©नीतिश तिवारी

4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरूवार (04-01-2018) को "देश की पहली महिला शिक्षक सावित्री फुले" (चर्चा अंक-2838) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    नववर्ष 2018 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  2. तुम एक कहानी थी,
    मेरी ज़िन्दगी की रवानी थी।
    तुम एक ख्वाब थी,
    जो पूरा होते-होते रह गया।...वाह ग़़़़़ज़ब

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका शुक्रिया।

      Delete