Sunday, 11 September 2016

बेवफाई करके चली गयी वो...




















रस्मों  रिवाजों की दुहाई देकर चली गयी वो,
अपने जिस्म की परछाई छोड़कर चली गयी वो,
बार-बार उसने कहा कि हालात के आगे मजबूर हूँ,
इश्क़ में फिर से बेवफाई करके चली गयी वो।

©नीतिश तिवारी।

No comments:

Post a Comment