Monday, 24 November 2014

एक वज़ह



                           आरज़ू दिल में दबाए फिरते हैं,
                          अपना तुम्हे हम बनाए फिरते हैं,
                            वज़ह तो कुछ ज़रूर रही होगी,
                      जो हम तेरी ही ग़ज़ल गुनगुनाए फिरते हैं.


                                        with love.
                                     nitish tiwary
                         www.facebook.com/nitish.tiwary.3
                           www.twitter.com/nitishtiwary3
                          http://instagram.com/nitish7610/

1 comment: