Monday, 24 February 2014

बंदिशें,हसरतें और तुम.



बहुत बंदिशें हैं ज़माने की,
फिर भी बेताब हूँ तेरे दीदार को.
क्यूँ ना साथ मिले अब तेरा,
जब हम छोड़ आए अपने घर-बार को.

पलके झुकाए खड़ी हो तुम,
न जाने किसके इंतज़ार को,
दिल में कसक सी उठ रही है,
अब हो जाने दो इज़हार को.

कुछ हसरत मेरी निगाहों में है,
कुछ उलफत तेरी अदाओं में है,
कुछ बरकत उसकी दुआओं में है,
कुछ जन्नत तेरी वाफ़ाओं में है.

तेरी उलझी हुई इन ज़ुल्फों से,
 हर बार सुलझ जाता हूँ  मैं ,
तेरी कातिल भरी इन नज़रों में,
हर बार नज़र आता हूँ मैं.

अपने होठों की इन सुर्खियों पर,
अब नाम मेरा लिख दे तू,
अपने माथे की इस बिंदिया पर,
अब नाम मेरा लिख दे तू.
                                                                      
                                                                                                            with love
                                                                   your  nitish.

4 comments:

  1. बहुत सुंदर कविता .......सशक्त लेखन !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. meri is sundar prastuti ko pasand karne ke liye aapka aabhar

      Delete
  2. bahut pyari rachna, prem ras se bhari, achhi lagi.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
    Replies
    1. meri rachna ko sarahne ke liye aapka bahut bahut dhanywad..

      Delete