Sunday, 4 January 2015

ये तेरा रूप, ये तेरा श्रृंगार .












ये तेरा रूप ही तो है,
जिसे मैं बार-बार निहारता हूँ. 
तेरे चेहरे की ये लालिमा,
जब मेरे आँखों मे ओझल हो जाती हैं। 


तो हर बार बहक जाता हूँ मैं,
एक नये अरमान के लिए,
एक खूबसूरत अंज़ाम की तरफ.
और महसूस करता हूँ मैं,











तेरे बदन की खुश्बू
जो मदहोश कर देती है मुझे,
एक पल,हर पल ,हर लम्हा.
और बेकरार रहता हूँ मैं,
तुझे पाने के लिए,
तुझे हर बार निहारने के लिए.

नीतीश तिवारी





8 comments:

India Smashed Australia to win ODI cricket series by 2-1.

Today, once again Indian Cricket team has done fabulous job. In third ODI they defeated Australia and won the one day series. T eam h...