Sunday, 8 July 2018

गुलाब माँगूंगा।




















मैं महबूब से मोहब्बत का हिसाब माँगूंगा,
उन उलझे हुए सवालों का जवाब माँगूंगा।
मैं जा रहा हूँ उसकी गली में फिर से,
उसकी किताब में रखा हुआ वो गुलाब माँगूंगा।

©नीतिश तिवारी।

No comments:

Post a Comment