Tuesday, 15 May 2018

मेंहदी किसी और के नाम की।

















चाहे लाख मेहंदी लगा ले किसी और के नाम की,
तेरे हांथों की लकीरों से अब मैं नहीं मिटूँगा ।

नफरतों का दौर तो तुम्हारे शहर में होता होगा,
हमारे यहाँ तो आम भी पत्थर से नहीं हाथ से तोड़ते हैं।

©नीतिश तिवारी।

2 comments:

  1. क्या बात है ... शहर की मानकर तो देखिए .. आम भी पत्थर से नहि तोड़े जाते ... बहुत लाजवाब शेर ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete