Monday, 4 September 2017

नकाब में आये हैं।














ज़ख्मों को सीने का तरीका सीख रहा हूँ,
अपनों से मिलने का सलीका सीख रहा हूँ।
मोहब्बत और दर्द को तो साथ रहने की फितरत है,
इन्हें जो अलग कर दे वो मसीह ढूंढ रहा हूँ।

आज मेरी आँखों में रौशनी आयी है,
आज वो मिलने नक़ाब में आये हैं,
फुर्सत से बात करने का इरादा था मेरा,
आज वो पीकर शराब बेहिसाब आये हैं।

©नीतिश तिवारी।



No comments:

Post a Comment