Tuesday, 30 May 2017

शायरी आपके लिए।






तुझको चाहा तो मैंने मगर पा ना सका,
तेरी आँखों की दरिया में डुबकी लगा ना सका,
तुम्हे मेरी ज़िन्दगी के उजाले से नफरत थी,
चारों तरफ अंधेरा था, मैं तेरे पास आ ना सका।

तेरे चेहरे की रंगत को मैं पा भी ना पाया,
और इस दर्द की दवा को मैं ला भी ना पाया।

तुझे फुर्सत मिले तो कभी याद कर लेना,
ज़िंदा हो चुका हूँ, फिर से बर्बाद कर लेना।

©नीतिश तिवारी।

Wednesday, 17 May 2017

चाँदनी के लिए।




मुझे कभी ऊंचाइयों से गिराने की कोशिश मत करना,
मैं एक सितारा हूँ, हमेशा चमकता रहूँगा।
और अगर कभी आसमान में नज़र नहीं आया तो,
समझ लेना, अमावश का चाँद बन गया हूँ, चाँदनी के लिए।

©नीतिश तिवारी


Thursday, 20 April 2017

मेहंदी--मोहब्बत वाली।















तेरे हाथों में मेहंदी,
जो मेरे नाम की थी,
तेरे हाथों से वो,
शायद मिट गयी होगी।
लेकिन मेरे साँसों में,
उस मेहंदी की महक,
ज़िन्दा है आज भी।

वो लाल रंग सिर्फ,
मेहंदी का रंग नहीं था।
मेरी बेरंग जिंदगी का,
एक प्यारा सा उमंग था।

तेरी खूबसूरत हाथों में रची,
उस महकती मेहंदी को,
आज भी देखता रहता हूँ।
बस इसी इंतज़ार में,
एक दिन फिर से,
तुम रचाओगी वो मेहंदी,
अपने साजन के लिए।

©नीतिश तिवारी।

Monday, 10 April 2017

अधूरी हसरतें।















मेरी अधूरी ख्वाहिशें अब भी तुम पर उधार हैं,
सारी हसरतें अधूरी हैं, अब भी तुमसे प्यार है।


मेरी तमन्नाओं की कसक को आज पूरा हो जाने दो,
आज चाँदनी रात है, थोड़ा सा तो बहक जाने दो।

©नीतिश तिवारी।

Saturday, 4 March 2017

अधूरा पैमाना।












कोई बच नहीं सकता इस मोहब्बत की बीमारी से,
बस एक पैमाना अधूरा रह जाता है होठों की अदाकारी से,

यूँ नादान बने रहने का समय अब नहीं रहा,
तुम पास तो आओ, कुछ हरकतें करते हैं।

©नीतिश तिवारी।



Thursday, 26 January 2017

मेरा वज़ूद।












मुझको मेरे वज़ूद का होना अब खलता है,
पर ऐसे ही तो ज़िन्दगी का खेल चलता है।

आज मौजूद नहीं है हीरे को तराशने वाला जौहरी,
ये कौन सा दौर है जिसमें शीशा भी पिघलता है।

लोग तो बहुत मिलते हैं सफर में हमसफर बनने वाले,
पर मुश्किल हालात में कहाँ कोई साथ चलता है।

ख्वाहिशों की बलि देकर ज़िन्दगी को संवारा है मैंने,
पर मंज़िल पाने को अब भी ये दिल मचलता है।

मैं किसे चाहूँ, किसके लिए अब सज़दा करूँ,
ये वक़्त भी मतलबी हो गया, हर पल बस बदलता है।


©नीतिश तिवारी।


Monday, 23 January 2017

इश्क में गुनाह।















इश्क़ में उसने कुछ ऐसा गुनाह कर दिया,
मुझको कैद करके खुद को आज़ाद कर दिया,
मैं उसकी जुल्फों की घनी चादर में खुद को छिपाता रहा,
उसकी कातिल अदा ने मेरी तबियत नासाज़ कर दिया।

©नीतिश तिवारी।

Thursday, 12 January 2017

एक उम्मीद फिर से।






कैसे उसके दिल में अपना प्यार जगाऊँ फिर से,
कैसे उसके दिल में नयी आरज़ू जगाऊँ फिर से,
वो कहती है मोहब्बत अब ख़त्म हो चुकी है ,
कैसे अपनी मोहब्बत को वापस लाऊँ फिर से। 

©नीतिश तिवारी

Monday, 9 January 2017

हया वाली अदा।




तेरी हया वाली अदा को सलाम हम करेंगे,
तुम लिखना अपनी दास्तान कलाम हम पढ़ेंगे,
तुम मानो या ना मानो मोहब्बत तो अब हो ही गयी है,
बनकर रह जाएंगे कहानी या नया इतिहास हम लिखेंगे।

©नीतिश तिवारी