Sunday, 6 March 2016

तेरा सज़दा करूँ।



तेरा  सज़दा  करूँ और तू मिल जाए ,
खुदा ऐसी तकदीर हर किसी को दे। 

अंधेरे की कीमत,उजाले की तस्वीर,

वाह रे खुदा,गजब की बनाई है तुमने तकदीर। 


©नीतिश तिवारी।

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (07-03-2016) को "शिव का ध्यान लगाओ" (चर्चा अंक-2274) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर और बेहतरीन प्रस्तुति, महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सर। ऐसे ही मेरा हौसला बढ़ाते रहिये।

      Delete
  3. सार्थक व प्रशंसनीय रचना...
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete