Thursday, 28 January 2016

चलो तुम्हे लिख देता हूँ।




आज कुछ ख़याल नहीं आ रहे हैं ,
चलो तुम्हे लिख देता हूँ। 
तुम्हारी हँसी लिख देता हूँ ,
तुम्हारी ख़ुशी लिख देता हूँ। 

आज कुछ ख़याल नहीं आ रहे हैं ,
चलो तुम्हे लिख देता हूँ।
तुम्हारी गुस्ताखियाँ लिख देता हूँ ,
तुम्हारी बदमाशियां लिख देता हूँ ,

प्यारी सी कहानी लिख देता हूँ ,
तुम्हारी वो नादानी लिख देता हूँ ,
चेहरे का नजराना लिख देता हूँ ,
जुल्फों का सवाँरना लिख देता हूँ। 

आज कुछ ख़याल नहीं आ रहे हैं ,
चलो तुम्हे लिख देता हूँ।
तुझसे जुड़ा वो बंधन लिख देता हूँ ,
तेरे प्यार का पागलपन लिख देता हूँ। 

©नीतिश तिवारी।







15 comments:

  1. प्रेममय सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  2. बेहद भावपूर्ण प्रेमरस परिपूर्ण रचना......बधाई....

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (29.01.2016) को "धूप अब खिलने लगी है" (चर्चा अंक-2236)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर पंक्तिया ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका।

      Delete
    2. शुक्रिया आपका।

      Delete
  5. आज सारी रात ओस की बुँदे गिरी
    चलो तुम्हारे साथ हर मुलाकात आज लिख देता हूँ ...बहुत अच्छी कविता है थोड़ी गुंजाईश है जल्दी पूरी हो जायेगी

    ReplyDelete
  6. उनको लिखा भी किसी कविता से कम कहाँ ... बहुत लाजवाब ...

    ReplyDelete