Tuesday, 16 June 2015

वो खूबसूरत एहसास.















वो खूबसूरत एहसास.
जब समंदर के किनारे,
लहरों से लहरें टकराती हैं,
तब तेरे होने से मुझे,
जीने की वजह नज़र आती है.

वो खूबसूरत एहसास.
जब बहकी इन फिजाओं में,
तेरी खुश्बू महकती है,
तब तेरे होने से मेरे,
साँसों मे एक आस सी जगती  है.

©नीतीश तिवारी

No comments:

Post a Comment