Sunday, 31 May 2015

कशमकश ज़िंदगी की.



अंज़ाम की फ़िक्र,
आगाज़ का डर.
कशमकश ज़िंदगी की,
न इधर जाए न उधर.
©नीतीश तिवारी

No comments:

Post a Comment