Sunday, 25 January 2015

उसी गली में मेरा भी घर है।



नज़र नज़र में तेरा असर है,
बाकी सब तो बेअसर है ,
तुझे मैं देखूँ जिस गली में,
उसी गली में मेरा भी घर है। 

सुरूर तो मोहब्बत का था ,
कसूर तो शरारत का था ,
फिर भी अंजाम तक ना पहुँच पाया ,
क्योंकि बेक़सूर मैं अपनी हरकत से था। 

©नीतीश तिवारी। 

8 comments:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (26-01-2015) को "गणतन्त्र पर्व" (चर्चा-1870) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    गणतन्त्रदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सर, आपको भी गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये।

      Delete
  3. बढ़िया ........गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये।

    ReplyDelete
  4. अनुपम..... बेहद उम्दा और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@मेरे सपनों का भारत ऐसा भारत हो तो बेहतर हो

    ReplyDelete