Tuesday, 10 June 2014

ये शायर जवान नही है.



                     कौन कहता है  इस दिल में तेरे निशान नही है,
                     शीशे के घर तो बहुत हैं पर पक्के मकान नही हैं,
                     उम्मीद के दियों को इन आँधियों ने बुझा डाला,
                     पुरानी हवेली के पीछे अब मेरी दुकान नही है.

                     सोचता हूँ फिर से निकलूं तेरी गली से,
                     अब वो रास्ता सुनसान नही है,
                     फिर से लिखूं कुछ तेरी याद में,
                     पर अब ये शायर जवान नही है.


                     with.....love.....your....nitish.

2 comments:

  1. बहुत खूब सूरत तिवारी जी

    ReplyDelete