Tuesday, 4 March 2014

मोहब्बत का हिसाब



                        ला तेरे मोहब्बत का हिसाब लिख दूँ ,
                       लोग कहते हैं कि शायरी में वज़न नहीं है। 

                        फ़ुर्सत मिलेगी तो अपनी दास्तान लिखेंगे ,
                        अभी इंतज़ार है एक कहानी के बनने का। 
                                                                                     
                                     प्यार के साथ 
                                               आपका                                                                                                           नीतीश।

No comments:

Post a Comment