Sunday, 30 March 2014

तन्हाई का आलम.





                   इस दर्द-ए-इश्क में तन्हाई का आलम तो देखिए,
                   आजकल चेरापूंजी में भी रेगिस्तान नज़र आता है.

                   उसकी खामोशी ने इज़हार ना करने दिया,
                   और हम समझ बैठे की वो किसी और की है.
                                         
                                     आपका नीतीश

Tuesday, 11 March 2014

एक पैगाम उसके नाम।















कहीं खो ना  जाये मुझमें तेरा वज़ूद ,
अपने दिल कि हसरतों को सम्भाल कर रखना। 

कहीं बन ना जाए एक नया अफ़साना ,

अपनी इन अदाओं को छिपा कर रखना। 

कहीं हो ना जाए बरसात इस मौसम में ,

अपने इस बादल को बचा कर रखना। 

कहीं घायल ना कर दे तेरी ये नज़रें ,

अपनी इन आँखों में काजल लगा कर रखना। 

कहीं मुश्किल ना हो जाए अब मुझे जीने में ,

अपनी इस धड़कन को बचा कर रखना। 

everyours.

nitish.

Tuesday, 4 March 2014

मोहब्बत का हिसाब



                        ला तेरे मोहब्बत का हिसाब लिख दूँ ,
                       लोग कहते हैं कि शायरी में वज़न नहीं है। 

                        फ़ुर्सत मिलेगी तो अपनी दास्तान लिखेंगे ,
                        अभी इंतज़ार है एक कहानी के बनने का। 
                                                                                     
                                     प्यार के साथ 
                                               आपका                                                                                                           नीतीश।