Thursday, 2 January 2014

तेरी मोहब्बत ही काफ़ी है.


                        

                         उस टूटे हुए शीशे की औकात क्या,
                         खुद को देखने के लिए तेरा चेहरा ही काफ़ी है.

                        उस बिखरे हुए पत्ते की बिसात क्या,
                        खुद को समेटने के लिए तेरा आँचल ही काफ़ी है

                        उस सूखे हुए सागर की सौगात क्या,
                        खुद को डुबोने के लिए तेरा हुस्न ही काफ़ी है.

                       उस बिन मौसम बादल की बरसात क्या,
                       खुद को भिगोने के लिए तेरे आँसू ही काफ़ी हैं.

                       उस ठहरे हुए वक़्त की हालात क्या,
                       खुद को संभालने के लिए तेरी मोहब्बत ही काफ़ी है.

7 comments:

  1. बहुत सुंदर----
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाऐं----

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल .......!!!

    ReplyDelete
  3. वाह...लाजवाब प्यार-भरी रचना...बहुत बहुत बधाई....

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-कुछ हमसे सुनो कुछ हमसे कहो

    ReplyDelete