Sunday, 26 January 2014

एक कहानी















जरुरत थी या मजबूरी ,
जो तुमने निभायी ये दूरी। 

दस्तूर तुम्हारा ऐसा था ,
मैं चाँद कि आस में जगा था। 

एक छोटी सी नादानी थी ,
जो रूठी हुई कहानी थी। 

एक मौसम जो मेरे साथ था ,
एक उलझन जो तेरे पास था। 

मेरा जिस्म तेरी पनाह में था ,
पर तेरा रूह न जाने किसके पास था। 

Saturday, 11 January 2014

एक नज़र इधर भी।



तेरे शहर का मिज़ाज़ देखा ,
लोग बदनाम हैं एक नाम के खातिर। 

उन परिंदो के पैर अब तक भटकते है ,
शायद उनका आशियाना अब भी अधूरा है। 

साँझ ढलते ही दिल में एक तलब सी जगती है ,
रात में किसी परी का इंतज़ार हो जैसे। 

तुम्हे आज़माने कि ख्वाहिश है तो किसी और से मिल ,
मेरे दिल के जज्बात अब खैरात नहीं रहे। 

प्यार के साथ 
आपका नीतीश 

Thursday, 2 January 2014

तेरी मोहब्बत ही काफ़ी है.


                        

                         उस टूटे हुए शीशे की औकात क्या,
                         खुद को देखने के लिए तेरा चेहरा ही काफ़ी है.

                        उस बिखरे हुए पत्ते की बिसात क्या,
                        खुद को समेटने के लिए तेरा आँचल ही काफ़ी है

                        उस सूखे हुए सागर की सौगात क्या,
                        खुद को डुबोने के लिए तेरा हुस्न ही काफ़ी है.

                       उस बिन मौसम बादल की बरसात क्या,
                       खुद को भिगोने के लिए तेरे आँसू ही काफ़ी हैं.

                       उस ठहरे हुए वक़्त की हालात क्या,
                       खुद को संभालने के लिए तेरी मोहब्बत ही काफ़ी है.

Wednesday, 1 January 2014

नववर्ष मंगलमय हो.

















आप सभी को मेरे ब्लॉग की पहली वर्षगाँठ और नववर्ष की हार्दिक शुभकामना.
नववर्ष मंगलमय हो.
आज मेरे ब्लॉग को एक साल हो गये हैं.
मेरे सभी दोस्तों और ब्लॉग प्रशंसकों को मेरा शुक्रिया जिन्होने मेरे ब्लॉग को सराहा और अपने प्यार से मुझे अभिभूत किया.
आज इस नववर्ष के अवसर पर पढ़िए मेरी नयी कविता।

बीत गयी वो शाम,
आज नया आगाज़ है,

आँखों में नये सपने हैं,
होठों पे नये नगमें हैं.

धड़कन में एक दस्तूर है,
साँसों में नया सुरूर है,

उम्मीदोँ  की नयी बहार है,
बदल रहा संसार है.

अपनों का एक साथ है ,
गैरों पर भी विश्वास है। 

नए रौशनी की  दरकार  है ,
अँधियारा मिटने को तैयार है। 

कुछ दुआओं पर  भरोसा है ,
एक अमन की आशा है। 

कुछ नया करने का इरादा है ,
यही नये साल से वादा है। 

शुभकामनाओं के साथ 
आपका नीतीश