Thursday, 14 November 2013

हम भी हैं शायर



मचलता है जिस्म तो मिलता है रूह को  सुकून ,
इश्क़ वो दरिया है जिसमे गोते लगाते  हैं सभी। 

हर बार चला देता है वो अपने तरकश का तीर ,
कम्बख्त मेरा ही दिल होता है उसके निशाने पर। 

आ जाना मेरे ख्वाबों में आज भी ,
दीदार कि तलब एक बार फिर जगी है। 

अपनी आँसुओं से मिटा देते तेरी तस्वीर को ,
पर कम्बख्त निकलता भी नहीं तेरी याद के बिना। 

4 comments:

  1. सुन्दर व सशक्त नज़्म है......बधाई ....

    ReplyDelete
  2. Very Interesting Kahani Shared by You. Thank You For Sharing.
    प्यार की बात

    ReplyDelete
  3. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल !!

    ReplyDelete
  4. काफी सुंदर चित्रण ..... !!!
    कभी हमारे ब्लॉग पर भी पधारे.....!!!
    @
    Sanjay Bhaskar
    http://sanjaybhaskar.blogspot.in/

    ReplyDelete