Thursday, 26 September 2013

अभी मुमकिन नही...


                   
                     अभी मुमकिन नही है मुहब्बत में बेवफ़ाई,
                     अभी तो मेरे दिल ने ली  है अंगड़ाई.

                     अभी मुमकिन नही है मुझसे तेरी रुसवाई
                     अभी तो नज़र आई है मुझे तेरी परछाई.

                     अभी मुमकिन नही है इन साँसों की जुदाई,
                     अभी तो मेरी धड़कन पे तुमने है हलचल मचाई.

                     अभी मुमकिन नही है मेरे घर से तेरी बिदाई,
                     अभी तो मैने तेरे लिए सेहरा है सजाई.

No comments:

Post a Comment