Monday, 9 September 2013

शायरी....फ़ुर्सत में..







                मैं तो सम्भ्ल जाऊँगा, तेरी बेवफ़ाई के बाद,

                पर हैरान हूँ ,तेरा क्या होगा मुझसे जुदाई के बाद.




                मेरी आँखों से मेरे ख्वाब चुराने वाले,

                अब आ भी जाओ मुझे सताने वाले,

   
                इनकार की बात नही,हम तो इकरार कर लेंगे,


                अब आ भी जाओ मुझे तड़पाने वाले.

                
              तुझे ख्वाबों मे ढूँढने की आदत थी ऐसी,

              कि आज तक हम नींद से जाग ना पाए.



                नीतीश.

No comments:

Post a Comment