Friday, 30 August 2013

बारिश




                          एक फुहार बनके बरखा आई है,
                          आज मेरे तन को फिर से भिगोयी है.
                          पर उस चंचल मन का क्या?
                          जो इस सावन मेरे दिल पे छाई है.

                          कभी बारिश की बूँदों में,
                          तो कभी भीगे पत्तों में,
                          एक बदली की तरह,
                          उसकी तस्वीर नज़र आई है.
                          
                          प्यार के साथ,
                          आपका नीतीश.

No comments:

Post a Comment