Saturday, 6 July 2013

उफ़ ये शायरी ....और वो.




                           अब आ गये हो तो थोड़ी देर ठहर ही जाओ,
                   ये दिल तुम्हारा ही है,गैरों का बसेरा नही.

                   तू लौट आई है, मेरी दुआ कबूल हुई,
                   पर अफ़सोस,
                  तू फिर चली जाएगी, उसकी दुआ के खातिर.

No comments:

Post a Comment