Friday, 26 July 2013

...कुछ तो लोग कहेंगे

                      
                      अरे कभी तो ज़िक्र हो उस ज़ालिम बेवफा का ,
                      लोग मुझसे मेरी मोहब्बत की दास्तान पूछते हैं.


                      कुछ धड़कन का कसूर था, कुछ उनकी अदाओं का,
                      और लोग कहते हैं की मैं मोहब्बत में बीमार हो गया.

No comments:

Post a Comment