Sunday, 30 June 2013

तेरी चाहत



                                      मैं तेरे एहसास से ना जाने कब मिल गया,
                          और तेरी चाहत थी, मुझे भूल जाने की.

                          मैं तेरे दामन में कुछ यूँ लिपट गया,

                          और तेरी चाहत थी, मुझसे दूर जाने की.

                          मैं तेरी रूह में हर पल बस गया,

                          और तेरी चाहत थी, गैरों के घर बसाने की.

                          मैं तेरे हर लफ्ज़ में ग़ज़ल बन गया,

                          और तेरी चाहत थी,दूसरों के गीत गुनगुनाने की.

                          मैं तेरी बारिश में पतझड़ सा बन गया,

                          और तेरी चाहत थी,सूखे में रह जाने की.

                          मैं तेरी चौखट पे ना जाने कब मर गया,

                          और तेरी चाहत थी कहीं और सर झुकने की.

                            प्यार के साथ 

                            आपका नीतीश

Thursday, 27 June 2013

feeling of being lonely.



How will you define loneliness? Most people will say,"it is the form of being single and feel alone in life."But i think its not proper way to define loneliness.If you will ask me to define it i will say,"Loneliness is about living the life freely without any fear of loosing any relation".
If you are alone,you can live the life by your way.There is no pressure on you for maintaining any relation with someone.So you don't have any tension or fear that someone will oppose your decisions or make hurdle in your life. And by the way i have heard from some people that 'akele rahoge to khush rahoge'.This is true and at the same time if you are single your life is in your control otherwise being mingle with someone means you give your control in others hand.I am not saying that don't mingle and associate with people but my single point agenda is that don't afraid of being lonely in life.
while i am writing this post a some lines comes in my mind.

"akele hain to kya hame mohabbat na hogi.
haan hame mohabbat hai... tanhai ke saath"

Monday, 17 June 2013

Haridwar-God's Home





पिछले दिनो हरिद्वार जाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. बहुत दिनो से मन में इच्छा थी की एक बार हरिद्वार जाऊं पर इतने नज़दीक रहने के बाद भी कभी जा नही पाया था.अपनी यात्रा के अनुभव के आधार पर एक बात तो मैं निश्चीत रूप से कह सकता हूँ की अगर आपको धरती पर स्वर्ग का आनंद लेना है तो कम से कम एक बार हरिद्वार ज़रूर जाएँ.गंगा किनारे जाते ही आपको एक अत्यंत प्रेमभाव से परिपूर्ण वातावरण का एहसास होने लगता है जिसमे सिर्फ़ आप होते हैं प्रभु के साथ और दूसरा कोई नही.हरकी पौडी का विहंगम दृश्य एक सकारात्मक उर्जा प्रदान करने के लिए काफ़ी है या यूँ कहें की पल भर मे आप सारे दुखों को भूलकर प्रभु के लिए समर्पित हो जाते हैं तथा चारो तरफ खुशियाँ ही खुशियाँ नज़र आती हैं.
हरिद्वार के लोग भी काफ़ी सुलझे हुए हैं.
जहाँ एक ओर बनारस मे पंडित आप पर ज़्यादा से ज़्यादा दान करने के लिए दबाव डालते हैं लेकिन हरिद्वार में ऐसा कुछ नही है.आप अपनी मर्ज़ी से जितना चाहे उतना दान कर सकते हैं.
मौका मिलते ही दुबारा हरिद्वार जाने के लिए प्रयासरत रहूँगा

अंत मे बस इतना कहना चाहूँगा की


 सर्वे भवन्तु सुखिनः
सर्वे सन्तु निरामयाः ।
सर्वे भद्राणि पश्यन्तु
मा कश्चिद्दुःखभाग्भवेत् ।
 शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

Sunday, 16 June 2013

जज़्बात,हालात....और मैं.





                         मेरे अहसास को अपनी दामन में छुपा लो,
                         मेरे ख्वाब को अपनी आँखो में सज़ा लो,
                         मेरी प्यास को अपनी रूह में बसा लो,
                         मेरी धड़कन को अपनी ज़िंदगी बना लो.

                          शाम से मेरी आँखें नम हैं,
                          तू ही बता क्या मेरा प्यार कम है,
                          महबूब समझता हू तुझे अपने दिल से,
                          क्या यही मेरी ज़िंदगी का भ्रम है.

                           ना जाने कैसा अहसास था,
                           ना जाने कैसी मोहब्बत थी,
                           हम हर तस्वीर को सजाते रहे,
                           वो हर तस्वीर को मिटाते रहे.

                           मुझे बक्श मेरे खुदा उसकी कातिल अदाओं से,
                           वक़्त बदले ना बदले,वो हर पल बदल जाती है.

                           हमे मोहब्बत की तलाश थी,उन्हे शोहरत की,
                           हम अपनी मोहब्बत लूटा बैठे,उनके शोहरत के खातिर.

अगर आपको उपर की पंक्तियाँ अच्छी लगी हों तो इस पोस्ट को फ़ेसबुक पर शेयर कीजिए.
                           प्यार के साथ 
                          आपका नीतीश

Wednesday, 12 June 2013

ना बदला मैं ..बस बदले लोग





                         आशाओं की किरण थी ,बहारों का शमा था,

                         दर्जनों सपने थे , हज़ारों  ख्वाहिशें  थी,

                          ना रुकने का जज़्बा था, ना हारने की किस्मत,

                          कुछ नये दोस्त मिले,कुछ पुराने छोढ़ गये,

                          किसी से वफ़ा मिली तो किसी से दगा मिली,
                          फिर भी हम चलते रहे ,मंज़िल की तलाश में
                
                          पर हम आज भी वही हैं ,जो कल हुआ करते थे,
                          और कल भी वही रहेंगे जो आज हुआ करते हैं,